उत्तराखंड:बधाई! उत्तराखंड की बेटी नेहा यादव को यूके में मिली कॉमनवेल्थ स्कॉलरशिप

उत्तराखंड का नाम एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यहां की बेटी ने रौशन किया। उधमसिंह नगर जिले के पंतनगर की मूल निवासी नेहा यादव को उनके द्वारा किये गए डॉक्टरेट शोध कार्यो को आगे बढ़ाने के लिए यूनाइटेड किंगडम  में कॉमनवेल्थ स्कॉलरशिप(राष्ट्रमंडल छात्रवृत्ति)  मिली है। ज्यूरी द्वारा योग्यता के आधार पर कॉमनवेल्थ स्कालरशिप के लिए चयनित किया जाता है।नेहा को दिल्ली के जेएनयू से वर्तमान में पीएचडी के दौरान किये जाने वाले शोध कार्यो को आगे बढ़ाने के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज आईडीएस) ससेक्स विश्वविद्यालय ब्राइटन यूनाइटेड किंगडम में ये सुनहरा मौका मिला है। नेहा को ये छात्रवृत्ति उत्तराखंड में जलवायु संवेदनशील पर्वतीय क्षेत्रों में पोषण सुरक्षा पर शोध कार्य करने के लिए मिली है।


नेहा ने बताया कि आईडीएस को 2020 और 21 में क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में पहला स्थान मिला है। आईडीएस को 2019 में ग्लोबल गो टू थिंक टैंक इंडेक्स रिपोर्ट में भी पहला स्थान मिला है। उन्होंने ये भी बताया कि फरवरी 2022 में उन्हें ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूके में उत्तराखंड में प्राकृतिक आपदा राहत और रोकथाम पर एक वार्ता के लिए आमंत्रित किया गया है।

नेहा पब्लिक हेल्थ, मजदूरी, इत्यादि विषयो पर कई लेख लिख चुकी है । नेहा ने कोरोना काल के दौरान भी कई लेख लिखे,जिनमे उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि आयु के अनुसार महामारी के कारण मृत्यु दर महिलाओं की तुलना में पुरुषों की ज़्यादा थी। उन्होंने मृत्य दर के नए पैटर्न पर अपने लेख द्वारा प्रकाश डाला। उन्होंने कोरोना काल और मॉनसून के एक साथ होने पर उत्तराखंड में क्या प्रभाव पड़ा पर भी लेख लिखा है। इसके अलावा उन्होंने उत्तराखंड में आई  आपदा राहत और रोकथाम पर भी शोध किया और उत्तराखंड से सम्बंधित सभी शोधों को प्रकाशित भी किया है। नेहा 'डाउन टू अर्थ' में भी लिखती है और स्वास्थ्य, पर्यावरण और नीतिगत मुद्दों को उठाती है।नेहा ने कहा कि वो भविष्य में हिमालयी क्षेत्र में अनिश्चितता, खाद्य सुरक्षा, स्थिरता, लैंगिक समानता पर ध्यान केंद्रित करते हुए एक राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय संगठन में एक शोधकर्ता के रूप में काम करना चाहती है।

अंतर्राष्ट्रीय अनुसंधान समुदाय में उत्तराखंड राज्य का नाम गौरवान्वित करने के लिए रक्षा राज्य मंत्री, पर्यटन राज्य मंत्री(उत्तराखंड)अजय भट्ट ने भी  नेहा की सराहना की और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।वही नेहा ने अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अपने  पिता सेवानिवृत्त प्रोफेसर एमएस यादव कृषि विभाग पंतनगर विश्वविद्यालय, मां रेखा यादव,और जेएनयू के फैकल्टी के सदस्यों और अपने सहपाठियों को दिया है।