नैनीताल:एक बारिश में फेल साबित हुआ जिला प्रशासन और आपदा प्रबंधन!हल्द्वानी नैनीताल मार्ग कई घँटे रहा अवरुद्ध, ठंडी सड़क में अस्थायी ट्रीटमेंट की भी खुली पोल,मलबा फिर आया सड़क पर

मौसम विभाग की सटीक भविष्यवाणी के मुताबिक नैनीताल और आसपास के क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश तड़के सुबह से ही होने के चलते नैनीताल हल्द्वानी मार्ग में मलबा आने के कारण मार्ग अवरुद्ध हो गया है। दूध,अखबार, सब्जियों इत्यादि की गाड़ियां रास्ते मे फंस गई। स्कूली बच्चों को सबसे ज्यादा परेशानी उठानी पड़ी। 
नैनीताल हल्द्वानी मार्ग पर तीन मूर्ति के पास जेसीबी मशीन कई घण्टो तक मलबा हटाने की मशक्कत करती रही।
रास्ते अवरुद्ध होने के चलते जगह जगह गाड़ियों का लंबा जाम लग गया। ज्योलिकोट दो गांव रूसी गांव के लोगो ने बताया कि मूसलाधार बारिश की वजह से कुछ जगह भूस्खलन भी हुआ है और मलबा बह कर रास्तों में इक्क्ठा हो गया सुबह 3 से 4 बजे के करीब तेज़ बारिश शुरू हुई और अपने साथ मलबा भी ले आयी जिस वजह से करीब 5 घण्टे तक रास्ते जाम रहे।


इधर नैनीताल जिला मुख्यालय में भी कई जगह सड़को पर मलबा इक्क्ठा हो गया।पिछले साल 9 सितंबर को ठंडी सड़क में आये भूस्खलन के बाद डीएम के आदेश के अनुसार लोनिवि ने 8.31 लाख की लागत से अस्थायी ट्रीटमेंट शुरू किया था। ये अस्थायी ट्रीटमेंट भी एक बारिश में फेल साबित हुआ।

ट्रीटमेंट के बाद ठंडी सड़क में 2640 घन मीटर मलबे के निस्तारण फरवरी माह में पूरा किया गया था। जिला प्रशासन इस बात से भी अनभिज्ञ नही था कि मॉनसून में इन जगहों पर भूस्खलन दोबारा हो सकता है बावजूद इसके आपदा प्रबंधन की कोई तैयारी नज़र नही आई,जबकि जिला प्रशासन ने कई बार मॉनसून के समय अलर्ट रहने को लेकर कई बैठक भी की। एक बारिश ने आपदा प्रबंधन और जिला प्रशासन की मॉनसून को लेकर तैयारियों की पोल खोल दी।