नैनीताल ब्रेकिंग:मुल्जिमों को जेल भेजने का डर दिखाकर धन वसूली करने के मामले में महिला पेशकार का आया बयान,कहा मेरी छवि खराब करने के लिए लगाए गए इल्जाम

बीते रोज जिला न्यायालय में कार्यरत एक अधिवक्ता ने न्यायालय में ही कार्यरत एक महिला पेशकार पर दुर्व्यवहार और मुल्जिमो से जबरन धन वसूली के आरोप का मामला सामने आया था ,जिसमे जिला बार अध्यक्ष और सचिव सहित हाईकोर्ट के ज्यूडिशियल रजिस्ट्रार को शिकायती पत्र भी भेजा गया था,जिसमे महिला पेशकार पर जेल भेजने का डर दिखाकर अभियुक्त से जबरन धन वसूली का आरोप लगाया है। इस मामले में अब महिला पेशकार ने भी अपना पक्ष रखा और कहा कि मेरे पास उन लोगो मे से कोई भी नही आया था,मुझपर गलत और झूठे इल्जाम लगाए जा रहे है। महिला पेशकार हूँ इसीलिए मुझे दबाया जा रहा है। अगर ऐसा होता तो मुझपर आरोप लगाने वालों ने उसी समय वहां मौजूद  जज साहब से मेरी शिकायत क्यों नही की। 
 आपको बता दे कि मंगलवार को जिला बार अध्यक्ष और सचिव सहित हाईकोर्ट के ज्यूडिशियल रजिस्ट्रार को पत्र भेजकर महिला पेशकार पर आरोप लगाते हुए अधिवक्ता सुंदर मेहरा लिखा था कि अधिवक्ता सुंदर मेहरा ने उनका 138 एनआई एक्ट का एक मामला कोर्ट में विचाराधीन है जिसमे अभियुक्त के खिलाफ जारी वारंट को अधिवक्ता के माध्यम से उपस्थित होकर निरस्त करवाने के लिए महिला पेशकार के पास आया था लेकिन महिला पेशकार ने अभियुक्त से दुर्व्यवहार कर 500 रुपये की मांग की गई और कहा कि आज मैडम छुट्टी पर है यदि उसे 500 रुपये नही दिए तो वह न तो उसकी पत्रावली सीजेएम के पास भेजेंगी और न ही उस वारंट के रिकॉल का प्रश्न उत्तर उसे देंगी।जिसके बाद अभियुक्त ने डर कर महिला पेशकार को 500 रुपये दे दिए। अधिवक्ता ने मामले में महिला पेशकार पर आरोप लगाया है कि वह जेल भेजने का डर दिखाकर धन वसूली कर रही है।इससे सभी जूनियर अधिवक्ता परेशान है। महिला पेशकार का ट्रांसफर पहले भी इसी वजह से हुआ था जव वह रामनगर में थी।