नैनीताल:मातृ दिवस पर धरती माँ को कैसे भूलें? सैनेटरी पैड्स से होता है पर्यावरण दूषित,आशा फाउंडेशन ने थापला गांव में महिलाओं को वितरित किये री यूजेबल सैनेटरी पैड्स और कैंसर के प्रति किया जागरूक

आशा फाउंडेशन द्वारा मातृ दिवस के उपलक्ष्य में गुरुवार को नैनीताल के समीप थापला गाँव में महिलाओं को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के लिए कैंप लगाया गया। कार्यक्रम में महिलाओ को पिंक शाॉल उड़ाकर सम्मनित भी किया गया। जिसमें गाँव की महिलाओ और युवतियों को सैनेटरी पैड के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई।
इस दौरान आशा फाउंडेशन की फाउंडर आशा शर्मा ने महिलाओं में हो रही बेस्ट कैंसर,बच्चेदानी के कैंसर के बारे में बताया गया। उन्होंने बताया कि आशा फाउंडेशन द्वारा पिंक मुहीम चलाई जा रही है जिसमें महिलाओ को स्तन कैंसर के प्रति गांव गांव जाकर जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि महिलाएं अपने शरीर में हो रही छोटी छोटी समस्याओ को नजरअंदाज करती है,जो कि बाद में एक बढ़ी बीमारी का रूप धारण कर लेती है। ये बीमारी अक्सर कैंसर होती है जिसे वह खुलकर भी किसी को बता नहीं पाती है। महिलाएं इस झिझक से बाहर आये इसके लिए ही आशा फाउंडेशन ने गांव गांव जाकर पिंक मुहीम के तहत महिलाओं को कैंसर के प्रति जागरुक करना शुरू किया।

आज पिंक मुहिम की इसी कड़ी में आशा फाउंडेशन के द्वारा थापला गाँव की महिलाओं री यूजेबल सैनेटरी पैड्स दिए गए, महिलाएं यह पैड तीन साल तक धोकर दोबारा इस्तेमाल कर सकती है। आशा शर्मा ने बताया कि मातृ दिवस हम महिलाओं को तो सम्मानित करते है लेकिन भूल जाते है कि एक माँ हमारी धरती माँ भी है और बजार में मिलने वाले सैनेटरी पैड्स को यूज़ करने के बाद फेंक दिया जाता है जिससे पर्यावरण को काफ़ी हद तक नुकसान पहुँचता है। इसीलिए आज हम अपनी धरती माँ की रक्षा और महिलाओं की सुरक्षा के लिए यहां री यूजेबल पैड्स बांट रहे है,इनके साथ साथ वाशिंग पाउडर और पैंटी भी हम महिला को वितरित की गई ताकि पैड्स की साफ सफाई का भी ध्यान रखा जा सके। उन्होंने ये भी कहा कि हम यही नही रुकेंगे हम आगे भी अपने इस जागरूकता अभियान को गांव के इंटीरियर इलाकों तक ले जाएंगे ताकि महिलाओं में होने वाली बीमारियों से उन्हें बचाया जा सके।
इस दौरान आशा शर्मा, ईशा शाह, नीलू एलहेंस, मुन्नी तिवारी, मीनाक्षी कृति, डॉ. गीतिका गा गांगोला, हेमंत बिष्ट, डॉ. हरीश बिष्ट ब्लॉक प्रमुख, ग्राम प्रधान थापला हिमांशु पांडे, नीमा नेगी, सामाजिक कार्यकर्त्ता दीपक नेगी, आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता मीरा जोशी, आशा कार्यकर्त्ता विमला नेगी इत्यादि रहें।