ब्रेकिंग:-ग्रामीणों की शिकायत पर प्रशासन ने सीज किए वाहन, अवैध खनन में संलिप्त होने का आरोप

टनकपुर। चंपावत जिले के टनकपुर में खनन माफियाओं के हौसले बुलंद हैं।हालात यह है कि खनन माफियाओं के मन से प्रशासन का खौफ पूरी तरह से हट गया है और खनन माफिया जब मन चाहे तब अवैध खनन कर ले रहे हैं।खनन माफियाओं की क्षेत्र में लगातार बढ़ती सक्रियता और उनके बड़े नेटवर्क के कारण प्रशासन के लिए भी खनन माफियाओं को पकड़ना आसान नहीं हो रहा है।


मंगलवार की देर शाम टनकपुर के छीनीगोठ गांव में ग्रामीणों की शिकायत पर प्रशासन ने अवैध खनन के संदेह पर वाहनों को सीज कर दिया है। ग्रामीणों की शिकायत पर पुलिस प्रशासन एवं राजस्व विभाग की संयुक्त टीम ने छीनीगोठ गांव में छापेमारी कर दो डंपर और एक जेसीबी को सीज कर दिया है। नायब तहसीलदार पिंकी आर्या ने बताया कि क्षेत्र में पिछले लंबे समय से अवैध खनन की शिकायत मिल रही थी और आज भी कोतवाली टनकपुर की एमडीटी पर छीनीगोठ में अवैध खनन की सूचना मिली, जिसके पश्चात पुलिस और राजस्व की टीम ने क्षेत्र में जाकर छापेमारी कर वाहनों को सीज कर लिया है। नायब तहसीलदार ने बताया कि मौके पर पाए गए दोनों डंपर और जेसीबी को सीज कर कोतवाली में जमा कर दिया है।


मामले में जेसीबी के संचालक ने प्रशासन की कार्यवाही पर सवाल उठाते हुए कहा कि जिस स्थान से प्रशासन ने डंपर और जेसीबी को पकड़ा है उस स्थान पर उनका रिसोर्ट का काम चल रहा है, जहां पर उनके वाहन खड़े थे उसके बाद भी प्रशासन ने खाली खड़े वाहनों को सीज कर दिया है।